मध्यप्रदेश के इस विशाल शिव मंदिर, जिसे देश का सबसे बड़ा शिवलिंग माना जाता है, इसे उत्तर भारत का सोमनाथ कहा जाता हैं

Bhojeshwar Shiva Temple Ujjain
भोजेश्वर शिव मंदिर उज्जैन / फ़ोटो : पत्रिका


भोपाल : मध्यप्रदेश में दो ज्योतिर्लिंग है उज्जैन का महाकालेश्वर, ओर खंडवा का ओंमकारेश्वर, लेकिन एक शिवलिंग ऐसा भी है जो उत्तर भारत का सोमनाथ कहलाता है। यह शिवलिंग है प्रदेश की राजधानी भोपाल के नजदीक भोजपुर गाँव में स्थापित भोजेश्वर शिव मंदिर है। 

यह  बेतवा नदि के किनारे बना है। भोपाल से लगभग 30 किलोमीटर दूर रायसेन जिले के भोजपुर गाँव में बना परमार कालीन  मंदिर हमेशा ही श्रृद्धालुओं के आकर्षण का केन्द्र रहा है। ऐसा माना जाता है कि भोजपुर में दुनियां का सबसे बड़ा शिवलिंग स्थपित है। 

Bhojeshwar Shiva Temple Ujjain
भोजेश्वर शिव मंदिर उज्जैन 

जिसकी स्थापना धार के प्रसिद्ध परमार राजा भोज ने (1010-1053 ईसवीं) करवाई थी। अतः इसे भोजपुर मंदिर या भोजेश्वर मंदिर भी कहा जाता है। भोजपुर मंदिर में यू तो साल भर लोगों का आना जाना बना रहता है पर इस प्रसिद्ध स्थल पर साल में दो बार वार्षिक मेले का आयोजन भी किया जाता है, जिसमें मंकर संक्रांति व महाशिवरात्रि पर्व का पर्व शामिल है। इन दोनों पर्वों पर यहाँ भक्तों की भारी भीड़ लगती है। महाशिवरात्री पर यहाँ एक लाख से भी अधिक श्रृद्धालु पहुंचते हैं। जिसके लिए पुलिस प्रशासन द्वारा विशेष इंतजाम किए जाते है।

Bhojeshwar Shiva Temple Ujjain
भोजेश्वर शिव मंदिर उज्जैन / फ़ोटो : गूगल

प्राचीन काल में भोजपुर मंदिर “उत्तर भारत का सोमनाथ कहलाता था। सबसे अहम बात यह है की मंदिर अब तक पूरा नहीं बना है। भोजपुर के विश्व प्रसिद्ध शिवलिंग की ऊंचाई साढ़़े इक्कीस फिट, पिंडी का व्यास १८ फिट आठ इंच व जलहरी का निर्माण 20×20 से हुआ है। मंदिर के पास परिसर में पत्थर पर ही मंदिर का नक्शा बना हुआ है। भारतीय मंदिरों की वास्तुकला की झलक इस नक़्शे में दिखाई देती है। इस मंदिर के विषय में कई किदवंतियां भी है जिसमें एक कितवंती है कि द्वापर युग में पांडवों द्वारा माता कुंती द्वारा भगवान शिव की पूजा के लिए इस शिवलिंग का निर्माण एक ही रात में किया गया था। 

यह भी पढ़ें : यहां करते है ‘महादेव’ आठ दिन में न्याय, कहीं जाती हैं ‘महादेव की अदालत’

भोजपुर मंदिर के महंत पवन गिरी गोस्वामी की माने तो मंदिर की सेवा में उनकी यह 19 वीं पीढ़़ी है जो इस मंदिर की पूजा अर्चना कर रही है। महंत पवन गिरी गोस्वामी बताते है कि शिवरात्रि पर्व पर भगवान भोलेनाथ का माता पार्वती से विवाह हुआ था। 

भोजेश्वर शिव मंदिर उज्जैन
भोजेश्वर शिव मंदिर उज्जैन 

अत: इस दिन महिलाएं अपनी मनोकामना के साथ व्रत रखती है व भगवान भोले नाथ के पांव पखारने यहां आती है। वह बताते है कि माता कुंती के पिता का नाम भी राजाभोज था अत: इसका नाम भोजपुर पड़़ा व यह द्वापर युग का निर्मित मंदिर है व जीर्णशीर्ण होने पर धार के राजा परमार वंशी राजानभोज ने इसका जीर्णोद्घार कराया। यहां शिवरात्रि पर्व पर करीब एक लाख श्रद्धालु दर्शन के लिए आते है।

भारत में इस्लाम के आगमन से भी पहले, इस हिंदू मंदिर के गर्भगृह के ऊपर बना अधुरा गुम्बदाकार छत भारत में ही गुम्बद निर्माण के प्रचलन को प्रमाणित करती है। भले ही उनके निर्माण की तकनीक भिन्न हो। कुछ विद्वान इसे भारत में सबसे पहले गुम्बदीय छत वाली इमारत मानते हैं। इस मंदिर का दरवाजा भी किसी हिंदू इमारत के दरवाजों में सबसे बड़ा है। 

यह भी पढ़ें : जानिए ओडिशा के प्रसिद्ध जगन्नाथ पुरी मंदिर के बारे में कुछ अद्भुत बातें ओर रहस्य

चूँकि यह मंदिर ऊँचा है, इतनी प्राचीन मंदिर के निर्माण के दौरान भारी पत्थरों को ऊपर ले जाने के लिए ढ़लाने बनाई गई थी। इसका प्रमाण भी यहाँ मिलता है। मंदिर के निकट स्थित बाँध को राजा भोज ने बनवाया था। बाँध के पास प्राचीन समय में प्रचूर संख्या में शिवलिंग बनाया जाता था। 

यह स्थान शिवलिंग बनाने की प्रक्रिया की जानकारी देता है। इस मंदिर की ड्राइंग समीप ही स्थित पहाड़़ी पर उभरी हुई है जो आज भी दिखाई देती है। इससे ऐेसा प्रतीत होता है कि पूर्व में भी आज की तरह नक्शे बनाकर निर्माण कार्य किए जाते रहे होंगे।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें।और हमें Google समाचार पर फॉलो करें।

पूरी स्टोरी पढ़िए...

संबंधित ख़बरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button