पथरिया के बबलू दुबे हत्याकांड में मुख्य आरोपी को आजीवन कारावास की सजा

दमोह। पथरिया के बबलू दुबे हत्याकांड में मुख्य आरोपी को दोषसिद्ध पाते हुए न्यायालय तृतीय अपर सत्र न्यायाधीश महिमा कछवाहा ने आजीवन कारावास की सजा से दंडित किया है। अभियोजन के अनुसार 2 जून 2015 रात्रि करीब 8 बजे प्रार्थी प्रहलाद राठौर निवासी रजवास वार्ड क्रमांक 6 पथरिया अपने मालिक व पूर्व जनपद अध्यक्ष बबलू दुबे को अपनी बाइक में पीछे बैठाकर शराब दुकान पथरिया गया था, वहां स्लेटी रंग की एक गाड़ी खड़ी थी। आरोपी वीरेंद्र दुबे तथा नरेंद्र दुबे भी शराब दुकान पर खड़े थे। इन लोगों ने बबलू एवं मेरे साथ गाली गलौज एवं मारपीट की।फिर बबलू ने मुझसे कहा घर चलो, हम दोनों बाइक पर घर जाने निकले तो आरोपी वीरेंद्र दुबे व उनके बाजू में बैठे नरेंद्र दुबे गोगा तथा उनके दो अन्य साथियों ने कार से हम लोगों का पीछा किया।

बबलू ने मुझसे कहा कि गाड़ी किनारे कर लो, इन लोगों को निकल जाने दो। फिर कार गाड़ी चला रहे वीरेंद्र दुबे ने अपनी गाड़ी की स्पीड तेज कर हमारी बाइक में पीछे से टक्कर मार दी, जिससे मैं तथा बबलू दोनों नीचे गिर गए। मेरे हाथ की कोहनी में चोट आई , बबलू को सिर में गंभीर चोट आई उनकी नाक मुंह तथा कान से खून निकला। फिर मैं तथा सोनू बाइक पर बबलू को बैठाकर अस्पताल पथरिया ले गए। बबलू दुबे से शराब व्यवसाय को लेकर वीरेंद्र एवं नरेंद्र दुबे जलन रखते थे इसी कारण से जानबूझकर हत्या करने के नियत से इन्होंने टक्कर मारी है।

प्रार्थी की उक्त रिपोर्ट पर अपराध थाना पथरिया मे पंजीबद्ध कर मामला विवेचना में लिया गया। प्रकरण में आरोपी नरेंद्र दुबे एवं सौरभ उर्फ गोगा का निर्णय (पूर्व में आजीवन कारावास से दंडित) पूर्व में निराकृत हो चुका है। न्यायालय में आई साक्ष्य और अभियोजन द्वारा उपरोक्त तथ्यों को न्यायालय के समक्ष रखा गया। न्यायालय ने आरोपियों को धारा 302 में आजीवन कारावास एवं 5 हजार रुपए के अर्थदंड से दंडित किया। अभियोजन की ओर से पैरवी विशेष लोक अभियोजक अनंत सिंह ठाकुर एवं सतीश कपस्या द्वारा की गई।

 

पूरी स्टोरी पढ़िए...

संबंधित ख़बरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button