BJP की बैठक में शामिल हुए जयंत मलैया कहा राहुल सिंह पार्टी के उमीदवार है, हम सब उन्हें जिताएंगे!

jayant malaiya damoh bjp

दमोह। दमोह उपचुनाव 2021: दमोह विधानसभा (55) सीट पर 17 अप्रैल को उपचुनाव होने है। जिसको लेकर बीजेपी और कांग्रेस ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी है, दोनों ही पार्टियां चुनाव प्रचार में जुटीं हुई हैं। जहां बीजेपी ने अपने मंत्रियों को चुनाव का प्रभार दिया है। तो वहीं कांग्रेस ने भी अपने कई विधायकों को इस चुनाव को जिताने में लगा दिया है। 


शुक्रवार को दमोह बीजेपी आफिस (Damoh BJP Office) में चुनावी रणनीति को लेकर एक बैठक आयोजित की गई। इस बैठक में शिवराज सरकार के वरिष्ट मंत्री गोपाल भार्गव ने जयंत मलैया और खुद को शोले फिल्म की जय-वीरू की जोड़ी बता दिया गोपाल भार्गव ने प्रेस वार्ता के दौरान कहा कि राहुल लोधी को जिताने के लिए जरूरत पड़ी तो हम “जय वीरू की जोड़ी” भी बन जाएंगे।


भार्गव ने कहा कि हमारी नीति स्पष्ट है कि स्थानीय कार्यकर्ता आगे होकर काम करें. यह चुनाव दमोह के विकास के लिए है. पूर्व मंत्री जयंत मलैया ने विकास को जो गति दी थी, वह गति पहले की तरह ही बनी रहेंगी। भाजपा प्रत्याशी राहुल सिंह (BJP Candidate Rahul Singh) आगे बढ़ाएंगे। यदि कांग्रेस की सरकार 5 साल सत्ता में रह जाती तो विकास की गति और अवरुद्ध हो जाती।


भार्गव ने आगे कहा कि कोई कशमकश नहीं है। परिणाम हमारे पक्ष में रहेगा इसमें किसी को कोई संदेह नहीं होना चाहिए। दमोह का यह उपचुनाव भाजपा भारी पूण बहुमत से जीत रही है। उन्होंने कहा कि बीजेपी दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी है और बीजेपी की ताकत, उसके कार्यकर्ताओं की ताकत है इसके बारे में पूरा देश जानता है, भाजपा की नीति रीति बड़ी स्पष्ट है।


बैठक में क्या बोले मलैया:


भाजपा कार्यालय पहुंचने के बाद पूर्व वित्त मंत्री जयंत मलैया के स्वर अचानक बदल गए. कार्यकर्ताओं की बैठक में उन्होंने कहा किन किन परिस्थितियों में क्या हुआ उसे अब छोड़ दीजिए। उन्होंने कहा कि राहुल सिंह लोधी भाजपा के उम्मीदवार हैं। इसलिए हम सब का कर्तव्य है कि उन्हें चुनाव जिताएं, मलैया ने आगे कहा कि 1971 में मेरे पिताजी जनसंघ के टिकट पर पहला चुनाव लड़े थे, तब से लेकर आज तक मुझे याद नहीं आता है कि मैंने या मेरे परिवार ने पार्टी के घोषित उम्मीदवार के खिलाफ काम किया हो, उन्होंने कहा की इच्छाएं सबके मन में होती हैं. इच्छाएं होने दें पर इसमें बुरा क्या है, लेकिन हम सब मिलकर पार्टी प्रत्याशी को ही जिताएंगे।


चुनाव तो 17 तारीख को होना है. अभी समय है।आप लोग मुझे बता दीजिए कि मुझे कहां जाना है. सब जगह जाऊंगा। हम सबका चुनाव चिन्ह कमल का निशान है उसका बटन सबको दबाना है।

पूरी स्टोरी पढ़िए...

संबंधित ख़बरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button