बारात जाने की हो रही थी तैयारी मौके पर प्रशासन अमले ने जा पंहुच रुकवाया बाल विवाह

damoh child marriage

दमोह। जिले में फैले कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए प्रशासन द्वारा कर्फ्यू लगाया गया है। जिसमें शादियां और वैवाहिक समारोहों पर पूर्णतः प्रतिबंध है, बाबजूद इसके ग्रामीण अंचलों में बाल विवाह होने के मामले सामने आ रहे है, बाल विवाहों को रोकने महिला वाल विकास और बाल संरक्षण विभाग की टीमें ग्रामीण अंचलों में सतत निगरानी भी रख रही है। 

मामला मड़ियादो गांव का है जहां महिला बाल विकास की टीम ने एक घर मे पंहुचकर बाल विवाह होने से रोका। विभाग को सूचना मिली थी कि मड़ियादो गांव के हरदौल मुहल्ले के जग्गू रजक के नाबालिग लड़के की बारात जाना है। वरिष्ठ अधिकारियों को जैसे ही इसकी जानकारी दी गई परियोजना अधिकारी हटा शिव राय के निर्देश पर सेक्टर पर्यवेक्षक मिनी अर्पिता नाथन ने तत्काल मड़ियादो में दल का गठन किया।

मौके पर आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओ को भेजा इनके साथ मड़ियादो थाना पुलिस ए एस आई विनोद करोलिया और स्टाफ ने पंहुचकर जब शादी वाले घर मे पंहुचकर परिजनों से पूछताछ की तो दस्तावेजों से पता चला कि लड़के की उम्र 20 वर्ष है जिसकी बारात हटा के विजोरी गांव रवाना हो रही है। नाबालिग की शादी रोकने गए अमले को यंहा काफी मशक्कत करनी पड़ी पहले तो यह परिवार तैयार नही हुआ,बाद में समझाइस के बाद जग्गू रजक शादी न करने को राजी हुए, जिसका पंचनामा भी मौके पर तैयार किया गया।

इसी प्रकार बिजौरी पाठक ग्राम बाल विवाह रोका गया, बच्ची के माता पिता को समझाया गया। 18, वर्ष पूर्ण होने के बाद शादी करे। सेक्टर लुहारी कार्मा कर्ता रितु गौतम की सहायिता से विवाह रोका गया।

पूरी स्टोरी पढ़िए...

संबंधित ख़बरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button