पत्रकार पर महिला ने लगाया ‘मानसिक प्रताड़ना’ का आरोप,पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुंचकर सौंपा ज्ञापन

women mental torture damoh

दमोह। हिमांशु रैकवार, मानसिक रूप से प्रताड़ित करने पर महिला ने पुलिस अधीक्षक पहुंचकर एक ज्ञापन सौपा। महिला रूपवती अहिरवाल ने बताया कि वे शक्तिनगर आमचैपरा खुर्द की निवासी है तथा शासकीय नवीन माध्यमिक शाला भरतला में पद पर पदस्थ है। सत्र 2019-20 में शाला में किचिन शेड का निर्माण होने पर शासन के द्वारा राशि जारी हुई जिसका निर्माण कार्य सी.एम.सी. भरतला के द्वारा कराया जाता था इसका पता पत्रकार उपेन्द्र प्यासी को लग गया जिनके द्वारा मुझसेे 10000 रूपये मांगे जाने की मांग की गई पैसे देने से इंकार करने पर उनके द्वारा अपनी पत्रकारिता का नाजायज उपयोग कर मेरे खिलाफ अखबार में खबर निकली गई और मुझे बदनाम करने की कोशिश की गई जातिगत टिप्पणी की गई। 


महिला ने कहा, इस मेरे पर भी मेरे द्वारा कोई प्रतिक्रया नहीं होने पर उनके द्वारा मेरे ऊपर आर.टी.आई. लगाई एक बार नहीं वो भी चार बार एक वर्ष में ताकि मैं उसको पैसे दे दूॅ लेकिन मैंने सारे रिकार्ड चेक करवाये अधिकारियों के द्वारा शाला का वित्तीय रिकार्ड चेक हो गया है और सही पाया गया। पत्रकार उपेन्द्र प्यासी के द्वारा इतना कुछ करने पर भी जब उसे मैने 10000 रूपये नहीं दिये तो अब उनके द्वारा जिला शिक्षा विभाग में शिकायत कर दी है इस तरह यह मुझे एक साल से मानसिक रूप से परेशान किया जा रहा है। इस कारण से मैं शाला संबंधी काम व घरेलू कार्यो में ध्यान नहीं दे पाती हूॅं हर समय मुझे बदनामी का डर लगता है। मैं अपने आप को मानसिक रूप से असमर्थ महसूस करती हूॅं।


महिला ने आरोप लगाते हुए कहा कि यह पत्रकार अपनी पत्रकारिता का नाजायज ढंग से उपयोग करते हुए मुझे बार बार मानसिक रूप से परेशान कर रहे है। महिला ने ज्ञापन देते हुए मांग की है कि जल्द से जल्द इस विषय पर उचित कार्यवाही करे अन्यथा की स्थिती में अगर मेरे द्वारा अपने जीवन को लेकर कोई कदम उठाया जाये तो इस की संपूर्ण जबावदेही पत्रकार उपेन्द्र प्यासी होगा क्योंकि बदनाम होने से अच्छा तो आत्मदाह करना होगा।

पूरी स्टोरी पढ़िए...

संबंधित ख़बरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button