भाजपा कार्यसमिति की बैठक: जेपी नड्डा ने शिवराज सरकार को इन फील्ड में बताया नंबर-1, दमोह के नेता भी हुए शामिल कमलनाथ पर साधा निशाना

bjp working committee meeting mp

दमोह। मध्यप्रदेश में बीते 15 सालों में तीन बार हमारी सरकारें रही हैं। इस समय फिर हमारी सरकार है। इस दौरान प्रदेश ने काफी तरक्की की। बीच में डेढ़ साल का समय ऐसा आया, जब प्रदेश में कांग्रेस की सरकार रही। लंबे समय तक भाजपा की सरकारें रहने से लोग भूल गए थे कि कांग्रेस की सरकारें किस तरह चलती हैं, लेकिन 15 महीने की कांग्रेस सरकार ने लोगों को भाजपा और कांग्रेस की सरकारों का अंतर समझा दिया। 


यह सरकार ऐसी चली कि वसूली, भ्रष्टाचार, ट्रांसफर के रिकॉर्ड बना दिये, मिशन को कमीशन में बदल दिया। जब तक कोई दक्षिणा न चढ़ाए, प्रदेश में कोई काम नहीं कर सकता था। उस सरकार ने हर किसी को धोखा दिया। लेकिन हमारे जैसे विचारों वाले लोग साथ आए और आज फिर मध्यप्रदेश में हमारी सरकार है, जिसने प्रदेश को कई मामलों में देश का नंबर वन राज्य बना दिया है, सेवा और विकास के कीर्तिमान बना रही है। पार्टी के कार्यकर्ताओं को यह बात जनता तक पहुंचानी चाहिए। यह बात भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे.पी.नड्डा ने प्रदेश कार्यसमिति की बैठक का वर्चुअल शुभारंभ करते हुए कही। प्रदेश कार्यसमिति की सेमी वर्चुअल बैठक गुरुवार को प्रदेश कार्यालय में शुरू हुई। 


इस बैठक में राष्ट्रीय अध्यक्ष जे.पी. नड्डा जी के साथ केंद्रीय मंत्री थावरचंद गहलोत, नरेंद्रसिंह तोमर, प्रहलाद पटेल, राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय एवं वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया केंद्रीय कार्यालय में उपस्थित थे। राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री शिवप्रकाश जी, प्रदेश प्रभारी मुरलीधर राव, मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान, प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा, केंद्रीय मंत्री फग्गनसिंह कुलस्ते, प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत, सह संगठन महामंत्री हितानंद जी प्रदेश कार्यालय में उपस्थित थे। बैठक में कार्यसमिति के अन्य सदस्य अपने-अपने जिलों से वर्चुअली उपस्थित हुए।


वही दमोह भाजपा जिला कार्यालय से भाजपा जिला अध्यक्ष एडवोकेट प्रीतम सिंह लोधी, पूर्व मंत्री पूर्व सांसद डॉ रामकृष्ण कुसमरिया ,जबेरा विधायक धर्मेंद्र सिंह लोधी, हरिशंकर चौधरी शामिल हुए। राष्ट्रीय अध्यक्ष जे.पी.नड्डा जी ने कार्यसमिति की बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि देश में कई लोग किसान नेता होने का दम भरते हैं, लेकिन इन्होंने किसानों के लिए कुछ नहीं किया। देश में अगर कोई किसानों का सबसे बड़ा हितैषी है तो वह प्रधानमंत्री मोदी जी हैं और किसान हित के निर्णयों को लागू करने वाला कोई मुख्यमंत्री है, तो वह शिवराजसिंह जी हैं। 


नड्डा ने कहा कि मध्यप्रदेश आज समर्थन मूल्य पर खरीदी के मामले में देश में नंबर-1 राज्य है। प्रदेश सरकार ने गेहूं की रिकॉर्ड खरीदी की है और मध्यप्रदेश पंजाब को पीछे छोड़कर ऑलटाइम नंबर-1 बन गया है। सरकार ने किसान कल्याण पर 90 हजार करोड़ की राशि खर्च की है। इसके अलावा डीबीटी यानि सीधे खातों में राशि पहुंचाने के मामले में मध्यप्रदेश नंबर-1 राज्य है। इनके अलावा सड़क निर्माण की गुणवत्ता और जन आरोग्य योजना के कॉर्ड जनरेशन में भी प्रदेश नंबर-1 है। कांग्रेस के एक प्रधानमंत्री कहते थे कि दिल्ली से एक रुपया चलता है, तो हितग्राही तक 16 पैसे पहुंचते हैं। लेकिन मोदी जी ने आधार को आधार दिया और जो आधार का विरोध करते थे, उन्हें बेआधार कर दिया। अब पूरा पैसा खातों में पहुंचता है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश की सरकार ने 50 लाख स्ट्रीट वेंडर्स को आर्थिक सहारा दिया है। एमएसएमई से 45 हजार लोगों को जोड़ा गया है। प्रदेश की भाजपा सरकार जिन परिवारों का कोविड संकट में नुकसान हुआ है, उन्हें आर्थिक मदद दे रही है। बेसहारा बच्चों को पेंशन और फ्री एजुकेशन, उपचार दे रही है। 

हमारी सरकार मुसीबत के समय भी काम करती है, इस बात को कार्यकर्ता जनता तक पहुंचाएं। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने प्रवासी मजदूरों के खाते में 15 करोड़, 50 लाख से अधिक की राशि डाली है। श्रम सिद्धि अभियान के दौरान सरकार ने 60 लाख जॉब होल्डर्स को 32 करोड़ दिनों का रोजगार उपलब्ध कराया है। रोजगार सेतु के माध्यम से 45 हजार वर्कर्स को रोजगार उपलब्ध कराया है। प्रदेश में चंबल और नर्मदा एक्सप्रेस वे का काम शुरू होने जा रहा है। नड्डा ने कहा कि सरकार की योजनाएं किस तरह से लोगों की तस्वीर और तकदीर बदलती हैं, यह बात कार्यकर्ता जनता तक पहुंचाएं। नड्डा ने कहा कि कांग्रेस का इतना पतन हो चुका है कि वह भाजपा और मोदी जी की आलोचना करते-करते देश की आलोचना करने लगी है। कमलनाथ कहते हैं कि देश महान नहीं बदनाम है। दिग्विजयसिंह क्लब हाउस चैट में धारा 370 और 35 ए को लेकर सवाल उठाते हैं। मैं इनसे कहना चाहता हूं कि जिस काम को आप लोग 70 सालों में नहीं कर सके, उसे मोदी जी ने कर दिखाया है। आज कश्मीर 370 और 35 ए से मुक्त है। श्री नड्डा ने कहा कि हम 25 जून को आपातकाल विरोधी दिवस मना रहे हैं। आपातकाल में कांग्रेस की सरकार ने 1.25 लाख लोगों को 22 महीनों के लिए जेलों में ठूंस दिया था, जिनमें से 75 हजार लोग जनसंघ से संबंधित थे। सिर्फ आपातकाल ही नहीं, लोकतंत्र और लोकतांत्रिक संस्थाओं का विरोध कांग्रेस हमेशा करती रही है। 


उन्होंने कहा कि यह कैसी विडंबना है कि प्रजातंत्र का गला घोंटने वाले लोग आज प्रजातंत्र की दुहाई दे रहे हैं। हमें यह बात जनता तक पहुंचानी होगी। नड्डा ने कहा कि बाधा डालना, भ्रम फैलाना कांग्रेस की आदत बन गई है। प्रधानमंत्री मोदी जी ने जब कोरोना से सुरक्षा के लिए देश में लॉकडाउन लगाया, तो पूछने लगे कि क्यों लगाया, हटा दिया तो पूछने लगे क्यों हटाया? कोरोना वैक्सीन को लेकर इन्होंने भ्रम फैलाया । कोई कहने लगा वैक्सीन की ट्रायल नहीं हुई, तो कोई कहने लगा हमें गिनीपिग बना दिया। नड्डा ने कहा कि वैक्सीन पर सवाल उठाने वालों ने हमारे वैज्ञानिकों के मनोबल को तोड़ने का प्रयास किया। राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि हमारा वैक्सीनेशन प्रोग्राम दुनिया का लार्जेस्ट एंड फास्टेस्ट प्रोग्राम है। उन्होंने कहा कि सारी दुनिया ने देखा है कि मोदी जी ने कोरोना संकट से मुकाबले में कोई कसर नहीं छोड़ी। नड्डा ने कहा कि मोदी सरकार पर सवाल उठाने वालों को यह जान लेना चाहिए कि स्मॉल पॉक्स और चिकन पॉक्स की वैक्सीन हमारे देश में आने में 15 साल लग गए थे। पोलियो की वैक्सीन आने में सालों लग गए थे। मोदी सरकार ने अप्रैल 2020 में टॉस्क फोर्स का गठन किया और सिर्फ 9 महीनों में देश में दो कंपिनयां वैक्सीन बनाने लगी थीं। सरकार ने वैक्सीनेशन के लिए 35 हजार करोड़ का बजट अलग से रखा है और दिसम्बर तक देश में 19 कंपनियां 57 करोड़ डोज बनाने लगेंगी। पहले देश में रोजाना सिर्फ 1500 टेस्ट होते थे, जिन्हें मोदी सरकार ने बढ़ाकर 25 लाख तक पहुंचाया। देश में सिर्फ एक लैब थी, अब 2500 हैं। 81000 आईसीयू बैड उपलब्ध हैं। मोदी सरकार ने ऑक्सीजन के उत्पादन को 300 मीट्रिक टन से बढ़ाकर 9446 टन तक पहुंचाया और वायुसेना के विमानों ने 1400 उड़ानें भरकर ऑक्सीजन की आपूर्ति की। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में जिस तरह से एक ही दिन में लगभग 17 लाख लोगों को वैक्सीन लगाकर रिकॉर्ड बनाया गया है, उसके लिए मैं मुख्यमंत्री शिवराज जी और प्रदेश की जनता को बधाई देता हूं। उन्होंने कहा कि कोरोना काल में कांग्रेस और विपक्षी दलों के लोग क्वारेंटाइन हो गए, कुछ आइसोलेशन में चले गए और कुछ पार्टियां वेंटिलेटर पर आ गई। इनका अस्तित्व सिर्फ ट्विटर और सोशल मीडिया पर दिखता था, जहां से ये सवाल उठाने, भ्रम फैलाने और टूल किट जारी करने जैसे काम करते थे। लेकिन भाजपा के कार्यकर्ता अपनी जान जोखिम में डालकर आगे आए और पीड़ितों की सेवा और सहायता की, क्योंकि भाजपा सिर्फ राजनीतिक दल नहीं है। हमारा सामाजिक पक्ष भी और हम लोगों के आंसू पोंछने वाले दल हैं। राष्ट्रीय अध्यक्ष ने सेवा ही संगठन अभियान-2 के दौरान प्रभावी सेवा कार्यों के लिए प्रदेश अध्यक्ष श्री विष्णुदत्त शर्मा सहित कार्यकर्ताओं को बधाई दी। कार्यसमिति की बैठक को संबोधित करते हुए प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि यह एक अद्भुत कार्यसमिति की बैठक है, जिसमें दिल्ली से लेकर संगठन के 57 जिलों तक के कार्यकर्ता जुड़े हुए हैं। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में अब कोरोना कंट्रोल में है। प्रदेश अब 1200 एक्टिव केस बचे हैं। 31 जिले ऐसे हैं जहां एक भी कोरोना संक्रमित नहीं है। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण को रोकने में मध्यप्रदेश भारतीय जनता पार्टी संगठन की इकाई के हजारों-लाखों कार्यकर्ताओं के योगदान रहा है। उन्होंने भाजपा कार्यकर्ताओं पर गर्व करते हुए कहा कि कोरोना संकट के दौरान हमारे कार्यकर्ता ब्लॉक, वार्ड और ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों की मदद के लिए काम कर रहे थे। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी को कल्पनाशील, संवेदनशील बताते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व के कारण आज हम कोरोना को हराने में सफल हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि एक तरफ प्रधानमंत्री जी वैक्सीन के इंतजाम कर रहे हैं, वहीं दूसरी ओर कांग्रेस नेता राहुल गांधी वैक्सीन को लेकर सवाल उठा रहे हैं। उन्हें यह पता होना चाहिए कि चिकनपोक्स महामारी विदेशों में खत्म होने के बाद कांग्रेस उसका टीका सरकार 5 साल बाद दे पाई थी। इसी तरह पोलियो टीका 20 साल बाद भारत को मिला था। लेकिन आज देश ने 9 महीने में ही दो-दो स्वदेशी वैक्सीन तैयार कर ली हैं। इस अवसर पर भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष एवं सांसद विष्णुदत्त शर्मा ने संबोधित करते हुए कहा कि हम जानते हैं कि कोरोना की वर्तमान परिस्थितियों के कारण देश और प्रदेश प्रभावित हुआ है। उन्होंने कहा कि चुनौती को अवसर में बदलना सीखना है तो हम देश के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी से सीख सकते हैं। कोरोना की चुनौतियों के बावजूद उन्होंने हमारे जीवन को बचाने के लिए हर संभव प्रयास किए। हमारे मुख्यमंत्री ने शपथ लेते ही कोरोना संकट से मुकाबले में जुट गए। इसी तरह भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा जी के सेवा ही संगठन के आह्वान पर हमारे कार्यकर्ता आमजन की मदद के लिए बूथ-बूथ पर हर समय मौजूद रहे। शर्मा ने कहा कि डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी ने जिस धारा 370 के लिए अपना बलिदान दिया, उसे हमारी संसद ने हटा दिया है। प्रधानमंत्री मोदी और गृह मंत्री अमित शाह की इच्छाशक्ति और संगठन की ताकत के बलपर इस काम को पूरा किया। राम मंदिर को शिलान्यास हो चुका है, निर्माण जारी है। शर्मा ने कहा कि भाजपा की सरकार आने के बाद उन लोगों के संकल्प पूरे हुए जिन्होंने वर्षों तक संघर्ष किया है। बैठक के दौरान प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत ने पार्टी की आगामी गतिविधियों एवं कार्यक्रमों की जानकारी दी। दिवंगत नेताओं, कार्यकर्ताओं एवं समाजजनों को श्रद्धांजलि देने के लिए प्रदेश महामंत्री हरिशंकर खटीक ने शोक प्रस्ताव रखा। राजनैतिक प्रस्ताव प्रदेश महामंत्री सरतेन्दु तिवारी ने प्रस्तुत किया। जिसका समर्थन प्रदेश उपाध्यक्ष जीतू जिराती एवं मंत्री जगदीश देवड़ा ने किया। प्रदेश महामंत्री कविता पाटीदार ने कोविड-19 पर प्रस्ताव रखा।जिसका समर्थन प्रदेश मंत्री रजनीश अग्रवाल द्वारा किया गया।

पूरी स्टोरी पढ़िए...

संबंधित ख़बरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button