ब्लैक फंगस के पीड़ित पिता के लिए बेटी ने मांगी मदद, सोनू सूद ने की बात, कहा- हम भिजवाएंगे इंजेक्शन

daughter seeks help for victim of black fungus

प्रदेश डेस्क। प्रदेश भर में म्यूकरमाइकोसिस (Black Fungus) के मामले बढ़ते जा रहे हैं, जबकि इसके लिए जरूरी एंटी फंगल और दवाओं की भारी कमी है। इसी बीच सोशल मीडिया पर हाल ही में एक वीडियो वायरल हुआ जिसमे एक बेटी अपनी पिता के लिए इंजेक्शन की गुहार लगाते नज़र आई। लड़की के पिता ब्लैक फंगस से जूझ रहे डॉक्टर के अनुसार उसके पिता लिए इंजेक्शन बेहद आवश्यक है। इंजेक्शन अस्पताल समेत कही उपलब्ध न होने पर इस लड़की ने वीडियो के जरिए अपने पिता के लिए सीएम शिवराज और ज्योतिरादित्य सिंधिया से सहायता मांगी।

मामला ग्वालियर के अपोलो अस्पातल का है जहां भर्ती एक शख्स म्यूकरमाइकोसिस से ग्रसित हैं जिसके कारण मरीज की डॉक्टरो को आंख तक निकालनी पड़ी। डॉक्टर के अनुसार मरीज के इलाज के लिए प्रतिदिन 4 इंजेक्शन की जरूरत है परंतु इंजेक्शन कही उपलब्ध न होने के कारण परिजन बेहद चिंता में है। पीड़ित मरीज़ की बेटी रेणु शर्मा ने मंगलवार को सोशल मीडिया पर एक वीडियो डाला था, जिसमें वह सीएम, ज्योतिरादित्य सिंधिया और अन्य लोगों की मदद मांगती दिखी। 

ग्वालियर के अपोलो अस्पातल में भर्ती अपने पिता के इलाज के लिए इंजेक्शन न मिलने पर बेटी रेणु शर्मा ने सीएम शिवराज और ज्योतिरादित्य सिंधिया से मदद की गुहार लगाई #Gwalior #MadhyaPradesh #BlackFungus #CMShivrajSingh #JyotiradityaMScindia pic.twitter.com/t2pkN3Seb5

— Damoh Today (@damohtoday) May 26, 2021

ग्वालियर जिला प्रशासन की तरफ से रेणू के पिता को दो इंजेक्शन मंगलवार को उपलब्ध करवाए गए थे। इसके बाद अब अभिनेता सोनू सूद ने रेणु शर्मा से वीडियो कॉल के जरिए बात की है साथ ही उसके पिता का हाल जाना है। उन्होंने कहा है कि मैं दिल्ली में तुम्हारे पिता के लिए इंजेक्शन अरेंज करवा दे रहा हूं। वहां पिक करना होगा। 

आपको बता दें की प्रदेश में अभी ब्लैक फंगस के 900 के करीब मरीज हैं। एक मरीज को 40 इंजेक्शन लगते हैं। हर दिन 4 इंजेक्शन लगाए जाते हैं। इस लिहाज से रोजाना 3600 इंजेक्शन की जरूरत है। हालत यह है हर दिन 13 सौ से 15 सौ इंजेक्शन ही मिल पा रहे हैं। निजी अस्पताल में भर्ती मरीजों को तो करीब 20 फीसद को ही इंजेक्शन मिल पा रहा है। जिससे जगह जगह लोग इंजेक्शन के लिए भटक रहे हैं

पूरी स्टोरी पढ़िए...

संबंधित ख़बरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button