पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती शुरू करने जा रही हैं नशा मुक्ति अभियान, शिवराज सरकार की बढ़ने वाली हैं टेंशन!

uma bharati sharab bandi abhiyan

भोपाल। एक तरफ़ जहां शिवराज सरकार नई शराब दुकानें खोलने का प्रस्ताव लाकर अपनी किरकिरी करा चुकी हैं, वहीं इसको लेकर पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा की फायर ब्रांड नेता उमा भारती ने फिर शिवराज सरकार (Shivraj Government) को लपेटे में लिया है। दरसअल उमा भारती (Uma Bharti) नशा मुक्ति अभियान की शुरूवात करने जा रही है।

इसकी जानकारी उमा भारती ने ट्वीट कर दी है, उमा भारती ने ट्वीट कर कहा है कि, “नशा मुक्ति अभियान के लिए मुझे मेरी सहयोगी मिल गई है, ‘खुशबू’ नाम की यह युवती मध्यप्रदेश की है और खुशबू उत्तराखंड में मेरे गंगा प्रवास में शामिल होने आयी थी, मैंने उसमें निष्ठा और साहस दोनों देखा, तभी उसी समय उसका नाम ‘गंगा भारती’ हो गया था।


नशा मुक्ति अभियान के लिए मुझे मेरी सहयोग़ी मिल गयी है । “ख़ुशबू” नाम की यह युवती मध्यप्रदेश की है तथा वह उत्तराखंड़ में मेरे गंगा प्रवास में शामिल होने आयी थी । मैंने उसमें निष्ठा एवं साहस दोनो देखे तभी उसी समय उसका नाम “गंगा भारती” हो गया था ।

— Uma Bharti (@umasribharti) February 2, 2021

उमा भारती ने एक और ट्वीट में लिखा है, “मैंने गंगा को 8 मार्च 2021 को महिला दिवस पर शराब एंव नशामुक्ति अभियान प्रारम्भ करने की तैयारी करने के लिये कहा है. आगे का विवरण वह स्वयं आप सबको पांच दिन के बाद बतायेंगी” 


मैंने गंगा को 8 मार्च 2021 को महिला दिवस पर शराब एवं नशमुक्ति अभियान प्रारम्भ करने की तैयारी करने के लिये कहा है । आगे का विवरण वह स्वयं आप सबको 5 दिन बाद बतायेंगी ।

— Uma Bharti (@umasribharti) February 2, 2021

आपको बता दे कि इससे पहले उमा भारती ने पिछले दिनों ही शराब बंदी की मांग करते हुए एक के बाद एक कुल आठ ट्वीट किए थे और बढ़ते अपराध का बड़ा कारण शराब को ही बताया था।


uma bharati nasha mukti abhiyaan
भाजपा नेता और पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती


उन्होंने लिखा था कि शराबबंदी कहीं से भी घाटे का सौदा नहीं है, शराब बंदी से राजस्व से हुई क्षति को कहीं से भी पूरा किया जा सकता है, पर शराब के नशे में बलात्कार, हत्याएं, दुर्घटनाएं छोटी बालिकाओं के साथ दुष्कर्म जैसी घटनाएं भयावह हैं, जो देश और समाज के लिए कलंक हैं’. उन्होने अगले ट्वीट में लिखा कि राजनीतिक दलों को चुनाव जीतने का दबाव रहता है, लेकिन बिहार में भाजपा की जीत यह साबित करती है कि शराब बंदी के कारण ही महिलाओं ने एक तरफा नीतीश कुमार को वोट दिया हैं।

पूरी स्टोरी पढ़िए...

संबंधित ख़बरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button