छत्तीसगढ़ के बाद अब मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार भी शुरू करेगी शराब की होम डिलीवरी

mp online liquor home delivery

प्रदेश डेस्क। दवा से ज्यादा जरूरी है शराब : जी हां जहां एक तरफ़ मध्य प्रदेश में कोरोना की दूसरी लहर ने जमकर तांडव मचाया हुआ है, प्रदेश के तमाम जिला अस्पतालों की हालत बेहद ख़राब हैं, दवा इंजेक्शन ऑक्सिजन के लिए लोग तरस रहे हैं इसके अभाव में कइयों ने तो अपनी जान गवा बैठे है। वहीं दूसरी तरफ सरकारो को इनसे ज्यादा जरूरी लोगों को शराब पिलाना है। वो भी घर बैठे शराब दरअसल, छत्तीसगढ़ की देखा-सीखी में अब मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में भी शराब की होम डिलीवरी जल्द ही शुरू हो सकती है।

ये भी पढ़े: शराब दुकानों को लेकर शिवराज सरकार का बड़ा फैसला 90ML की छोटी बोतल में मिलेगी देशी शराब

मध्य प्रदेश के आबकारी विभाग ने शराब की होम डिलीवरी (Liquor Home Delivery) का प्रस्ताव कैबिनेट में भेज दिया है। हालांकि शिवराज कैबिनेट में इस नीति पर अभी कोई भी विचार नहीं किया गया। इसी के ही साथ ही शिवराज सरकार ने अगले 10 महीने के लिए लाइसेंस फीस 5% बढ़ाकर ठेका रिन्यू करने का प्रस्ताव को भी फिलहाल ठंडे बस्ते में डाल दिया है।

सूत्रों के मुताबिक शिवराज सरकार (Shivraj Government) ने 2020-21 की नई आबाकारी नीति के तहत विदेशी शराब की ऑनलाइन बिक्री (Online Sale) को अप्रूवल दे दिया था। यह नई नीति 1 अप्रैल से लागू होनी थी,लेकिन प्रदेश में कोरोना महामारी से बिगड़े हालातों के कारण सरकार ने इसे कुछ समय के लिए टाल दिया है। शिवराज सरकार ने मौजूदा ठेकों को 5% लाइसेंस फीस बढ़ाकर जारी रखने का फैसला लिया है।

इन शहरों में शुरू हो सकती है ऑनलाइन बिक्री:

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के ऐलान के बाद अब उम्मीद है कि जा रही है, कि प्रदेश में नई शराब की दुकानें तो नहीं खोली जाएंगी और ना ही आबाकारी विभाग ऐसा कोई भी प्रस्ताव सरकार के पास भेजेंगे, लेकिन विदेशी शराब की ऑनलाइन बिक्री का प्रस्ताव विभाग ने कैबिनेट में स्वीकृति के लिए भेजा हुआ है. इस प्रस्ताव में कहा गया है कि शुरूआत में प्रदेश के 4 बड़े शहर भोपाल, ग्वालियर, जबलपुर और इंदौर में विदेशी शराब की ऑनलाइन बिक्री शुरू की जाएगी. हालांकि मुख्यमंत्री ने पूरे प्रस्ताव को पुनर्विचार के लिए लौटा दिया है।

पूरी स्टोरी पढ़िए...

संबंधित ख़बरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button